एएमयू के बाद जामिया यूनिवर्सिटी के छात्रों ने जमकर की तोड़फोड़

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान पुलिस और जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्रों के बीच रविवार को झड़प हो गई, जिसके बाद पुलिस ने जामिया के करीब 50 छात्रों को हिरासत में ले लिया। हालांकि, करीब 6 घंटे पुलिस स्टेशन में रखने के बाद दिल्ली पुलिस ने सोमवार की सुबह रिहा कर दिया। यह जानकारी पुलिस ने दी है।



नागरिकता संशोधन क़ानून पर जामिया मिल्लिया इस्लामिया में रविवार को भी विरोध प्रदर्शन हुआ। पिछले तीन दिन से यहां जामिया के छात्र संशोधित नागरिकता कानून के ख़िलाफ़ लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं।रविवार को छात्रों के साथ कई अन्‍य लोग भी प्रदर्शन में शामिल हो गए। प्रदर्शनकारियों ने जामिया से संसद तक जाने की कोशिश में हैं लेकिन पुलिस ने उन्हें अब तक आगे नहीं बढ़ने दिया है।रविवार को प्रदर्शनकारी हिंसा पर उतर आए और सराय जुलैना में उन्‍होंने 3 बसों में आग लगा दी। आग बुझाने के लिए दमकल विभाग की 4 गाड़ियां मौके पर पहुंची लेकिन प्रदर्शनकारियों ने दमकल एक गाड़ी में भी तोड़फोड़ की जिसमें एक फायरमैन को चोट लगी है।



बटला हाउस, जाकिर नगर, शाहीन बाग, अबुल फजल और अन्य इलाकों की मार्केट बंद कर लोग जगह-जगह समूह बनाकर प्रदर्शन कर रहे थे। दोपहर दो बजे आप के स्थानीय विधायक अमानतुल्लाह के नेतृत्व में भीड़ के एक समूह ने शाहीन बाग के सामने सरिता विहार-नोएडा रोड पर जाम लगा दिया। दूसरा समूह जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के गेट पर विरोध प्रदर्शन करने लगा। शाम होते-होत जामिया से लोगों ने मथुरा रोड की ओर कूच करना शुरू कर दिया।