एक ऐसा गांव जहाँ हर घर से कोई न कोई भारतीय सेना में है जवान

उत्तरप्रदेश के ग़ाज़ीपुर ज़िले का गहमर गाँव एशिया के सबसे बड़े गाँवों में गिना जाता है। यहां की पॉपुलेशन करीब 1 लाख 20 हजार से ऊपर है।यहां हर घर से कोई न कोई भारतीय सेना में जवान है।



गाजीपुर जिले से 40 किमी दूरी पर यह गांव स्थित है। गहमर में एक रेलवे स्टेशन है, जो पटना और मुगलसराय से जुड़ा है।लगभग 80 हज़ार आबादी वाला यह गाँव 22 पट्टी या टोले में बँटा हुआ है और प्रत्येक पट्टी किसी न किसी प्रसिद्ध व्यक्ति के नाम पर है । यहाँ के लोग फौजियों की जिंदगी से इस कदर जुड़े हैं कि चाहे युद्ध हो या कोई प्राकृतिक विपदा यहाँ की महिलायें अपने घर के पुरूषों को उसमें जाने से नहीं रोकती, बल्कि उन्हें प्रोत्साहित कर भेजती हैं ।


गाँव में भूमिहार को छोड़ वैसे सभी जाति के लोग रहते हैं, लेकिन सर्वाधिक संख्या राजपूतों की है और लोगों की आय का मुख्य स्रोत नौकरी ही है । प्रथम और द्वितीय विश्वयुद्ध हों या 1965 और 1971 के युद्ध या फिर कारगिल की लड़ाई, सब में यहाँ के फौजियों ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया । विश्वयुद्ध के समय में अँग्रेजों की फौज में गहमर के 228 सैनिक शामिल थे, जिनमें 21 मारे गए थे । इनकी याद में गहमर मध्य विधालय के मुख्य द्वार पर एक शिलालेख लगा हुआ है ।गांव में शहर जैसी सारी सुविधाएं हैं। गांव में टेलीफोन एक्सचेंज, डिग्री कॉलेज, इंटर कॉलेज, स्वास्थ्य केंद्र हैं। युद्ध हो या प्राकृतिक विपदा, यहां की महिलाएं पुरुषों को वहां जाने के लिए प्रोत्साहित करती हैं।


गांव के लड़कों को सेना में बहाली के लिए आवश्यक तैयारी में भी मदद दी जाती है। गांव के युवक गांव से कुछ दूरी पर गंगा तट पर स्थित मठिया चौक पर सुबह-शाम सेना में बहाली की तैयारी करते नजर आ जाएंगे। शिवानंद सिंह कहते हैं, "यहां के युवकों की फौज में जाने की परंपरा के कारण ही सेना गहमर में ही भर्ती शिविर लगाया करती थी। लेकिन 1986 में इस परंपरा को बंद कर दिया गया, और अब यहां के लड़कों को अब बहाली के लिए लखनऊ, रूड़की, सिकंदराबाद आदि जगह जाना पड़ता है।"